इंडियन रेलवे का एक चूहा पकड़ने का खर्च 22 हजार रुपये

 
इंडियन रेलवे का एक चूहा पकड़ने का खर्च 22 हजार रुपयेनई दिल्ली। इंडियन रेलवे चूहों को पकड़ने के लिए पानी की तरह पैसा बहाती है, इसके बावजूद रेल स्टेशनों और ट्रैकों पर चूहों की भरमार रहती है।

भारतीय रेलवे प्रति चूहा पकड़ने के लिए 22 हजार रुपये खर्च कर देती है. RTI से यह खुलासा हुआ है. रेलवे की चेन्नई डिवीजन चूहे पकड़ने के लिए भारी-भरकम रकम खर्च कर रहा है। रेलवे के चेन्नई डिवीजन ने एक RTI के जवाब में यह जानकारी दी है. भारतीय रेलवे चूहों से इतनी परेशान है कि उनको पकड़ने के लिए करोड़ों रुपये खर्च कर देती है. भारतीय रेलवे ने 35-35 लाख रुपये की 3 ऐसी मशीनें खरीदी हैं, जिनसे चूहे पकड़े जा सकें।

भारतीय रेलवे अभी और ऐसी ही मशीनें खरीदने की योजना बना रही है. ये चूहे ट्रेनों और यात्रियों के लिए जानलेवा साबित हो रहे हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार चेन्नई डिवीजन ऑफिस ने RTI का जवाब देते हुए कहा कि वह काफी समय से चूहों से परेशान है। चेन्नई डिवीजन ऑफिस ने बताया कि रेलवे स्टेशन और इसके कोचिंग सेंटर में भी चूहे काफी परेशान करते हैं. डिवीजन ने बताया मई 2016 से अप्रैल 2019 तक उन्होंने 5.89 करोड़ रुपये खर्च किए हैं. डिवीडन ने बताया कि सिर्फ 2018-19 में ही उन्होंने 2636 चूहे पकड़े हैं।

इसमें 1715 चूहे चेन्नई सेंट्रल, चेन्नई एग्मोर, चेंगलपट्टू, तामब्रम और जोलारपेट रेलवे स्टेशन से पकड़े गए हैं. जबकि रेलवे के कोचिंग सेंटर से 921 चूहे पकड़े गए हैं. चेन्नई डिवीजन ने एक चूहा पकड़ने के एवज में औसतन 22,344 रुपये खर्च किए। 

From around the web