इस शिव मंदिर में है मंदोदरी का रावण से मिलन होने की मान्यता

 
इस शिव मंदिर में है मंदोदरी का रावण से मिलन होने की मान्यतादेश-विदेश में भगवान शंकर के कई मंदिर हैं। इन मंदिरों में कुछ बेहद ही खास हैं। इन्हीं में से एक है श्री बिल्वेश्वरनाथ महादेव मंदिर। यह मंदिर उत्तर प्रदेश के मेरठ में स्थित है।

इस मंदिर को लेकर एक बेहद ही रोचक कथा प्रचलित है। इस कथा के मुताबिक इस शिव मंदिर में मंदोदरी का रावण से मिलन हुआ था। श्री बिल्वेश्वरनाथ महादेव मंदिर में आस्था रखने वालों का कहना है कि त्रेता युग में मंदोदरी यहां पर नियमीत रूप से शिव जी पूजा करने आया करती थीं।

मंदोदरी के साथ उनकी सखियां भी होती थीं। मंदोदरी शिव भक्त थीं। आखिरकार मंदोदरी की तपस्या से शिव जी प्रसन्न हुए। शिव ने उन्हें वरदान मांगने के लिए कहा। शिव की कृपा से यहीं मंदोदरी की मुलाकात रावण से हुई।

श्री बिल्वेश्वरनाथ महादेव मंदिर में एक शिवलिंग है। यह सिद्ध पीठ है। इसके अलावा यहां पर सिंदूरी श्री गणेश, माता पार्वती और सिद्धपीठ श्री भैरव जी भी विराजमान हैं। ऐसी मान्यता है कि इस शिवलिंग का जलाभिषेक या रूद्राभिषेक करने से शिव जी बहुत जल्द प्रसन्न हो जाते हैं।

कहते हैं कि शिव के प्रसन्न होने से जीवन की समस्त बाधाएं दूर हो जाती हैं। इस मंदिर के पास एक मैदान है जिसे भैसाली मैदान के नाम से जाना जाता है।

बताते हैं कि इस मैदान में राजा मय के समय सती सरोवर था। मंदोदरी इसमें स्नान करती थीं। और फिर पूजा के लिए जाती थीं।

From around the web