सपने को सच मानकर शेषनाग की दुल्हन बनी ये 14 साल की लड़की, पूजा अर्चना, चढ़ावा शुरू

 
सपने को सच मानकर शेषनाग की दुल्हन बनी ये 14 साल की लड़की, पूजा अर्चना, चढ़ावा शुरू
राकेश पाण्डेय
छत्तीसगढ़ के कोरबा से बडी खबर आ गयी एक 14 वर्षीय किशोरी के सपने में शेषनाग आए। शेषनाग ने किशोरी की मांग में सिंदूर भरा। प्रत्येक शनिवार को यह सपना किशोरी को आता है। बीते शनिवार को पुन: शेषनाग सपने में आए। इस बार मांग भरते समय शनिवार को बारात लेकर आने की बात कही। किशोरी भी सपने को सच मानकर शेषनाग की दुल्हन बनी बैठी है।

वहीं लोगों का कहना है कि उसके मांग में भरा गया सिंदूर मिटाने से नहीं मिट रहा है। लिहाजा भक्तों ने इस सपने को सच मानकर किशोरी को देवी मानकर उसकी पूजा-अर्चना शुरू कर दी है। जमकर चढ़ावा तक चढ़ाया जा रहा है। दूर-दूर से लोग दर्शन के लिए पहुंच रहे हैं।
इंसान चांद पर पहुंच चुका है, विज्ञान के इस युग में भी अंधविश्वास को बढ़ावा देने वाले लोगों की तनिक भी कमी नहीं है।

फिल्मी स्टाइल मे चमत्कार का वर्णन कर रही युवती
फिल्मों में दिखाए जाने वाले इच्छाधारी नाग-नागिन एवं शेषनाग की कहानी रिल की बजाए अब रियल लाइफ में नजर आ रहा है। यह पूरी घटना कोरबा विकासखंड अंतर्गत ग्राम पंचायत सतरेंगा के आश्रित ग्राम कोराई की बताई जा रही है। खबरों की माने तो एक 14 साल की किशोरी शेषनाग की दुल्हन बनकर बैठी है। उसका कहना है कि प्रत्येक शनिवार को उसके सपने में शेषनाग प्रकट होकर उसकी सिंदूर से भर देते हैं। इस बार शेषनाग द्वारा शनिवार को बारात लाने की बात किशोरी ने बताई है। शेषनाग के इंतजार में किशोरी दुल्हन बनी बैठी है। उसका कहना है कि शेषनाग ब्याहकर उसे अपने साथ ले जाएंगे।

नागादेवी बनी युवती पर चढने लगा चढावा
वहीं किशोरी के पिता की माने तो उसकी पुत्री के माथे पर जो सिंदूर लगा है उसे पोछने या मिटाने पर नहीं मिट रहा है। अब युवती व उसके परिजन जनमानस में अंधभक्त का प्रचार करने में लग गए हैं। जैसे ही यह खबर आम हुई गांव व आसपास के लोग किशोरी को देवी मानकर उसकी पूजा-अर्चना में जुट गए हैं। नागदेवी मानकर नारियल, अगरबत्ती, रुपए, पैसे सहित विभिन्न वस्तुएं चढ़ावे में चढ़ाई जा रही है।

अंधभक्त: चढा रहे सोने चांदी के कीमती जेवरात
ग्रामीण उक्त किशोरी के दर्शन को आतुर है। कई ग्रामीणजन तो अपनी मन्नते लेकर सोने-चांदी के आभूषण भी तथाकथित देवी के सामने चढ़ा रहे हैं। आस्था के नाम पर वनांचल ग्राम कोराई में लोगों की भीड़ जुटने लगी है।

चोढादाई मंदिर मे भी जलस्रोत फूटने की अफवाह
नवरात्रि पर्व के दौरान इस तरह की घटनाओं को दैवीय चमत्कार से जोड़कर देखा जाता है। नवरात्रि में जहां हरदी बाजार क्षेत्र के चोढ़ादाई मंदिर पहाड़ से जलस्त्रोत फूटने की खबर है। जिसकी पूजा-अर्चना में लोग जुटे हुए हैं। अब ग्राम कोरई में भी आस्था का ऐसा ही नजारा देखने को मिल रहा है। हालांकि इन घटनाओं के वैज्ञानिक पहलू कुछ और हो लेकिन आस्था के मामले में लोग विज्ञान के तौर-तरीकों पर यकीन नहीं करते।

प्रशासन सकते मे ले सकता है संज्ञान
कोरई में नागदेवी के दर्शन के बाद जिस तरह की भीड़ उमड़ रही है उसे देखते हुए प्रशासन भी संज्ञान ले सकता है। कहीं चढ़ावे के लालच में यह पूरी कहानी तो नहीं रची गई है। इसकी पड़ताल हो सकती है।

From around the web