अनोखी शादी : दूल्हे ने रखी ये 4 शर्तें, मां-बाप ने कीं पूरी तभी हुए फेरे

 
अनोखी शादी : दूल्हे ने रखी ये 4 शर्तें, मां-बाप ने कीं पूरी तभी हुए फेरेहरियाणा के सिरसा में आदमपुर इलाके में यह अनोखी शादी हुई। दूल्हा-दुल्हन ने समाज के सभी रीति रिवाजों को दरकिनार करते हुए ऐसी शादी कि हर किसी ने तारीफ की और अपील की कि हर किसी को ऐसे शादी करनी चाहिए। तभी बेटियों को समाज में उनका हक मिल पाएगा।

दूल्हे बलेंद्र और दुल्हन कांता की शादी में न बैंड बाजा बजा, न पंडित को बुलाया गया। न ही दहेज लिया गया। इन तीनों शर्तों को दूल्हे के मां-बाप ने पूरा किया। वहीं दुल्हन के परिवार वाले भी इसके लिए रजामंद हुए और एक रुपया व नारियल देकर बलेंद्र को अपना बना लिया। गांव चूली खुर्द निवासी छोटूराम खोखर व संतोष के बेटे बलेंद्र शास्त्री दूल्हा हैं। कांता गांव खैरमपुर निवासी जेलदार उर्फ भजनलाल की बेटी हैं। एमए पास बलेंद्र की पत्नी कांता जीएनएम के बाद ग्र्रेजुएशन कर रही हैं। दोनों ही इस तरह शादी करने से खुश हैं।

बलेंद्र ने बताया कि गांव चूली खुर्द से चुनिंदा लोग बारात में पहुंचे थे। गांव में भी कोई दिखावा नहीं किया गया और बेहद सादगी से बारात रवाना हुई। शादी में शरीक मेहमानों से कोई भी भात, उपहार या नेग भी नहीं लिया गया। एक रुपया व नारियल के साथ शादी सम्पन्न हुई।

From around the web