हम प्रदेश का परसेप्शन बदलने में सफल रहे : योगी

 
हम प्रदेश का परसेप्शन बदलने में सफल रहे : योगीलखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज भजपा प्रदेश कार्यालय में पत्रकारों से बात करते हुए अपनी सरकार की दो वर्ष की उपलब्धियां गिनाई। इस दौरान वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार जताना नहीं भूले और कहा कि प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में हम प्रदेश का परसेप्शन (धारणा) बदलने में सफल रहे हैं। उन्होंने कहा कि पहले 100 दिन, फिर छह महीने, उसके बाद एक वर्ष और अब दो वर्ष पूरे होने में हम अपना रिपोर्ट कार्ड लेकर आपके सामने आए हैं।
योगी ने कहा कि आज हमें खुशी हो रही है कि ये वही प्रदेश है जिसकी पहचान दंगों से होती थी, लेकिन 24 महीने के कार्यकाल को पूरा करने के बाद हमने इसकी प्रदेश की पहचान को बदलने का काम किया है। हमने 24 महीने में प्रदेश की उन तस्वीर को बदलने की कोशिश की जिसके ऊपर कई बदनुमा दाग लगा था। 24 माह पहले जब हमारी सरकार आई तो यूपी में अराजकता, असुरक्षा का माहौल था। हत्या, लूट, बलात्कार, अपहरण और दंगे इस प्रदेश की पहचान बन गए थे। प्रदेश के कैराना और कंधाला जैसे कस्बों से लोग पलायन करने को मजबूर हो गए थे। लेकिन हम यहां सुरक्षा एवं सुशासन की स्थापना करने में सफल हुए। हमारी जीरो टॉलरेंस नीति का असर है कि 2 वर्ष के कार्यकाल में प्रदेश में एक भी दंगा नहीं हुआ। अपहरण और एसिड अटैक की कोई घटना नहीं हुई। जबकि सपा-बसपा की सरकारों में काफी दंगे होते थे, जिनमें  हजारो लोगों की मौते होती थी। उन्होंने आंकड़े पेश करते हुए कहा कि 2012 में 227, 2013 में 247, 2014 में  242 और 2015 में 219 और 2016 में 100 से अधिक दंगे हुए थे।
3,539 मुठभेड़ों में 8,135 अपराधी गिरफ्तार
उन्होंने कहा कि अपराध और अपराधियों के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति और पुलिस की कार्यप्रणाली में राजनैतिक हस्तक्षेप समाप्त करने का असर रहा कि 20 मार्च 2017 से 15 मार्च 2019 की अवधि में हुई 3,539 मुठभेड़ों में 8,135 अपराधी गिरफ्तार किये गये। इसमें 2,746 इनामी हैं। जबकि 1,041 अपराधी घायल हुए तथा 73 दुर्दान्त अपराधी पुलिस की आत्मरक्षार्थ कार्रवाई में मारे गए। वहीं 13,886 अपराधियों ने स्वयं जमानत निरस्त करा कर न्यायालयों में आत्म समर्पण कर दिया। इस सबके बीच दुरूखद यह रहा कि इस अभियान में 600 पुलिसकर्मी घायल हुए तथा पुलिस के पांच बहादुर जवान भी शहीद हुए। इन सबके बीच सबसे अच्छी खबर यह रही कि प्रदेश के जिन हिस्से से लोगों ने पलायन शुरू कर दिया था, उनका कानून और सरकार पर विश्वास जगा और वे लोग वापस घर आने लगे।
दो सालों में हुआ 1.50 लाख से ज्यादा का निवेश 
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के अंदर सुरक्षा के बेहतर माहौल देने के कारण आज प्रदेश के अंदर पांच लाख करोड़ रुपये तक के निवेश का प्रस्ताव आ चुके है। उन्होंने कहा कि विगत दो वर्ष के दौरान हमारी सरकार प्रदेश के अंदर 1.50 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का निवेश कराने में सफल रही है। योगी ने कहा कि 2007 से 2012 के बीच बहुजन समाज पार्टी की सरकार में प्रदेश के अंदर केवल 56 हजार करोड़ रुपये का निवेश हो पाया था। वहीं 2012 से 2017 के बीज समाजवादी पार्टी की सरकार में मात्र 57 हजार करोड़ रुपये का निवेश निजी एवं सार्वजनिक क्षेत्रों में हो पाया था। इन दो वर्षों में विगत 10 वर्षों की तुलना में 50 फीसदी ज्यादा निवेश कराने में हमारी सरकार सफल रही है। जिससे 15 लाख से अधिक युवाओं को रोजगार मिला है। इसके साथ ही पूरी पारदर्शिता के साथ 2 लाख 25 हजार युवाओं को विभिन्न विभागों में सरकारी नौकरी दी गई है।
ओडीओपी से 05 लाख लोगों को मिला रोजगार 
योगी ने कहा कि हमारी सरकार ने 68 वर्षों में पहली बार उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस मनाया। इस अवसर पर 'वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोजेक्ट' की शुरुआत की जिसके माध्यम से अब तक 05 लाख लोगों को रोजगार मिला है। इनमें से 21 लाख 84 हजार 513 लाभार्थियों को 17 हजार 431 करोड़ रुपये की सहायता उपलब्ध कराते हुए उनका फाईनेन्शियल इनकुलजन हुआ है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने पारम्परिक कारीगरों एवं हस्तशिल्पियों के आजीविका के साधनों के सुदृढ़ीकरण के लिए 'विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना' शुरू की। इस योजना के माध्यम से अगले 03 साल में 01 लाख लोगों को टूलकिट प्रदान किया जाएगा तथा 06 लाख व्यक्तियों को प्रशिक्षण एवं मानदेय देकर लाभान्वित किया जाएगा।
86 लाख किसानों का किया कर्ज माफ 
योगी ने किसानों के लिए किए गए सरकार के कामों का जिक्र करते हुए कहा कि हमारी सरकार ने आते ही प्रदेश के 86 लाख लघु एवं सीमांत किसानों का कर्ज माफ किया। किसानों को उनकी फसलों का डेढ़ गुना न्यूनतम समर्थन मूल्य मिलने लगा है। गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 1460 रुपये प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 1840 रुपये प्रति क्विंटल किया गया। सरकार ने बिचौलियों पर लगाम लगाई। आज प्रदेश उन राज्यों में शामिल हो गया है जहां किसानों को 18 घंटे बिजली मिल रही है।
उन्होंने कहा कि विगत दो वर्षों को देखा जाए तो किसानों का एक भी आंदोलन उत्तर प्रदेश में देखने को नहीं मिला है। मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना से किसानों को आर्थिक सहायता मिल रही है। इस योजना के तहत किसानों को हर वर्ष छह हजार रुपये दिया जाएगा। जिसकी पहली किस्त (दो हजार रुपये) दी जा चुकी है। जिससे देश भर के करीब 12 करोड़ किसान लाभान्वित हुए हैं। दो वर्षों में लंबे समय से लटकी प्रदेश की बाणसागर परियोजना को पूरा किया गया। जिससे कि प्रदेश के सिंचित क्षेत्र में बढ़त दर्ज हुई।
योगी ने कन्या सुमंगला योजना, उज्ज्वला योजना को गिनाते हुए कहा कि हमारी सरकार ने पिछले दो साल में बेहतरीन कार्य किया है। 181 महिला हेल्प लाइन व रेस्क्यू वैन सेवा से सभी 75 जनपदों में रेस्क्यू वाहनों द्वारा फरवरी, 2019 तक 20,157 महिलाओं का बचाव किया गया। इनमें रात्रि के 4722 प्रकरण भी शामिल हैं। उन्होंने बताया कि बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान' के तहत प्रदेश में कन्या सुमंगला योजना की इस बजट में व्यवस्था की गई है। इसके तहत 6 श्रेणियों में 15 हजार रुपये तहत प्रत्येक बालिका को उसके अकाउंट में दिए जाने की व्यवस्था की गई है।
हमने स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाया : योगी
मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले दो साल में हमारी सरकार ने स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाया है। प्रदेश में 15 नये मेडिकल कॉलेज की स्थापना कर रही है। प्रदेश के गोरखपुर और रायबरेली में दो एम्स बन रहे हैं, दोनों एम्स में ओपीडी प्रारम्भ हो चुकी है। प्रदेश के सभी 75 जिलों को पहले चरण में 150, दूसरे चरण में 100 लाइफ सपोर्ट वैन उपलब्ध कराई गई है। उन्होंने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के तहत प्रदेश के 6 करोड़ लोगों को प्रतिवर्ष, 5 लाख रुपए की नि:शुल्क चिकित्सा बीमा की सुविधा दी जा रही है। गैर बीपीएल आबादी के 56 लाख लोगों को मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना में शामिल किया गया है।
मुख्यमंत्री योगी ने बताया कि पिछली सरकार 24 महीने में पीएम आवास योजना (शहरी) व (ग्रामीण) के तहत 83 हजार आवासों की स्वीकृति मात्र दे पाई थी, जबकि हमारी सरकार 24 महीने में 23 लाख 82 हजार आवास गरीबों को दे चुकी है। पिछली सरकार ने ढाई साल में 41 लाख शौचायल बनाए, जबकि हमारी सरकार 24 महीने में 2.49 करोड़ शौचालय बनाकर बेस लाइन सर्वे के अनुसार उत्तर प्रदेश को खुले में शौच से मुक्त कर दिया है।
प्रदेश का राजस्व बढ़ाने में मिली सफलता
मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2016-17 में प्रदेश का राजकोषीय घाटा, सकल घरेलू उत्पाद के सापेक्ष 4.5 प्रतिशत था। हमारी सरकार के कुशल वित्तीय प्रबन्धन से वर्ष 2017-18 में राज्य का राजकोषीय घाटा, सकल घरेलू उत्पाद का 2.97 प्रतिशत हो गया। पूर्ववर्ती सरकार का रेवेन्यू सरप्लस 1.6 प्रतिशत था, जबकि हमारी सरकार के कार्यकाल में रेवेन्यू सरप्लस बढ़कर 3.2 प्रतिशत हो गया है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार में खनन में सालाना राजस्व संग्रह 1,400 करोड़ रुपये से बढ़कर 4,200 करोड़ रुपये, आबकारी में राजस्व संग्रह 13,000 करोड़ रुपये से बढ़कर 29,000 करोड़ रुपये तथा मण्डी शुल्क 600 करोड़ रुपये से बढ़कर 1,800 करोड़ रुपये वार्षिक हो गया है।
प्रेसवार्ता में पार्टी प्रदेश अध्यक्ष डा महेन्द्र नाथ पाण्डेय, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, उपमुख्यमंत्री डा दिनेश शर्मा, प्रदेश महामंत्री व एमएलसी विद्यासागर सोनकर उपस्थित रहे।

From around the web