जब पति की चिता पर 'सती' होने को बैठ गई पत्नी, न घर वालों ने रोका और न ही ग्रामीणों ने...

 
जब पति की चिता पर 'सती' होने को बैठ गई पत्नी, न घर वालों ने रोका और न ही ग्रामीणों ने...आगरा। मैनपुरी में पति की मौत के बाद बुजुर्ग महिला सती होने पर आमादा हो गई। वो पति की चिता पर बैठ गई। इसकी जानकारी हुई तो मौके पर भीड़ उमड़ पड़ी। हैरत की बात यह है कि परिजनों के साथ ही ग्रामीणों ने भी किसी तरह का कोई विरोध नहीं किया।

मुखाग्नि देने से पहले ही पुलिस फोर्स महिला को चिता से उठा ले गया। गांव में करीब चार घंटे तक हाईवोल्टेज ड्रामा चला।  क्षेत्र के गांव अंगौथा निवासी 80 वर्षीय गोरेलाल शाक्य की रविवार शाम को सामान्य तौर पर मौत हो गई। ग्रामीणों के अनुसार गांव के बाहर ही सोमवार सुबह करीब दस बजे परिजन अंतेष्टि करने की तैयारी में जुट गए। अंतेष्टि के लिए चिता को तैयार किया गया। इसी बीच गोरेलाल की 75 वर्षीय पत्नी लौंगश्री चिता पर सती होने के लिए बैठ गईं।

महिला को न तो घर वालों ने रोका और न ही ग्रामीणों ने। परिवार की कुछ महिलाओं ने लौंगश्री का शृ़ंगार भी कर दिया। महिला के सती होने की जानकारी मिलते ही क्षेत्र के लोगों की मौके पर भीड़ जमा हो गई। चिता को मुखाग्नि दी जाती, इससे पहले ही महिला आशा ज्योति लाइन, डायल 100 और कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंच गई। 

महिला आशा ज्योति लाइन की टीम और पुलिसकर्मियों ने महिला को जबरन चिता से उठा लिया। इसके बाद महिला थाने का फोर्स और एसडीएम सदर अशोक कुमार, सीओ परमानंद पांडेय भी मौके पर पहुंच गए। अधिकारियों ने आनन फानन में उसके पति की अंतेष्टि कराई। वहीं, महिला को समझाने का प्रयास किया गया, लेकिन अंतेष्टि होने तक महिला अपनी जिद पर अड़ी रही। 

From around the web