अब नाबालिग ऐसे बनवा सकते हैं पैन कार्ड ‍‍! केवल इन बातों का रखना होगा ध्यान

डंके की चोट पर 'सिर्फ सच'

  1. Home
  2. Business

अब नाबालिग ऐसे बनवा सकते हैं पैन कार्ड ‍‍! केवल इन बातों का रखना होगा ध्यान

आपका PAN कार्ड हो सकता है निष्क्रिय, महीना ख़त्म होने से पहले जरूर कर लें ये काम


पर्मानेंट अकाउंट नंबर (PAN) की बात करें तो ये भी आधार कार्ड के जैसा ही एड्रेस प्रूफ में काम आता है पैन कार्ड की बात करें तो आपको हर तरह की जानकारी मिल जाती है। यह 10 अंकों का अल्फान्यूमेरिक नंबर मौजूद रहता है। पैन कार्ड का काम पहचान पत्र के साथ टैक्स भरने, आईटीआर भरने और टीडीएस क्लेम करने को लेकर भी करना अहम होता है।

सभी टैक्सपेयर्स, बिजनेस, संगठन और लोकल गर्वनमेंट की बात करें तो पैन कार्ड काफी जरुरी माना जाता है। अगर किसी के पास पैन कार्ड मौजूद नहीं है तो काम में रुकावट हो सकती है। ऐसी स्थिति में पैन कार्ड बनवाकर फायदा ले सकते हैं।

आईटीआर के लिए पैन कार्ड की पड़ती है जरुरत

मान लीजिए कोई नाबालिग 15 हजार रुपये से अधिक की कमाई करता है तो वे आईटीआर को लेकर क्लेम कर सकता है। . इनकम टैक्स रिटर्न को आप तब ही भर पाएंगे जब आपके पास पेन कार्ड मौजूद होता है।

अगर पैन कार्ड मौजूद नहीं है तो आप आईटीआर क्लेम करना भी मुमकिन नहीं है। नाबालिग लोग इस तरह से पैन कार्ड के लिए आवेदन कर फायदा ले सकते हैं। नाबालिग के पैन कार्ड की जरुरत होती है तो निवेश करने, निवेश में नॉमिनी जोड़ने को लेकर, बैंक का खाता खुलवाने और नाबालिग वाले आमदनि में भी जरुरत होती है। ऐसे में नाबालिग के नाम लगाकर उनके माता पिता या फिर फिर घर का कोई अन्य सदस्य भी पैन कार्ड के लिए आवेदन कर फायदा ले सकता है।

जानकारी नाबालिग के नाम पर जारी होने वाले पैन कार्ड पर उसकी तस्वीर और हस्ताक्षर मौजूद नहीं रहते हैं। इसलिए इसे पहचान प्रमाण के रूप में इस्तेमाल करने में काफी दिक्कत होती है। जब नाबालिग 18 साल ,तक पहुंच जाता है, तो उसे पैन कार्ड अपडेट के लिए आवेदन करने के बाद फायदा मिल जाता है। पैन कार्ड अप्लाई करना है तो आपको NSDL की वेबसाइट पर जाना सबसे जरुरी होता है। अब फॉर्म 49A को सावधानी से भरना होता है। फिर नाबालिग सर्टिफिकेट और पैरेंट से फोटोग्राफ समेत अन्य दस्तावेज को जमा करना होता है। पैरेंट्स के सिग्नेचर की जरुरत हो जाती है। अब आपको 107 रुपये का भुगतान करना भी जरुरी हो जाता है। इसके बाद आपको एक खास नंबर दिया जाता है जिसकी मदद से आप पैन कार्ड को आसानी के साथ ट्रैक कर सकते हैं।