खाने का तेल होगा सस्ता, मोदी सरकार ने त्योहारी सीजन में खत्म की बेसिक कस्टम ड्यूटी

 
oil

नई दिल्ली। त्योहारी सीजन में मोदी सरकार ने आम उपभोक्ताओं को राहत देते हुए पाम , सोयाबीन और सूरजमुखी के तेल के आयात से बेसिक कस्टम ड्यूटी को खत्म करते हुए कृषि उपकर में कटौती करने का फैसला किया। आज से लागू ये छूट अगले साल मार्च तक रहेगी। सरकार के इस फैसले से त्योहारी मौसम में खाद्य तेलों की बढ़ी कीमतों से लोगों को राहत मिलेगी। सरकार द्वारा की गई इस कटौती से तेल की कीमतों में 10 से 15 रुपये प्रति लीटर की कमी हो सकती है। 

केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) ने सरकार के इस फैसले से जुड़ी अधिसूचना जारी करते हुए बताया कि शुल्क में कटौती 14 अक्टूबर से प्रभावी होगी और 31 मार्च, 2022 तक लागू रहेगी। एग्री सेस की बात करें तो कच्चे पाम तेल पर अब 7.5 प्रतिशत का लगेगा, जबकि कच्चे सोयाबीन तेल और कच्चे सूरजमुखी तेल के लिए यह दर पांच प्रतिशत होगी। वहीं, पाम, सोयाबीन और सूरजमुखी के तेल की कच्ची किस्मों पर प्रभावी कस्टम ड्यूटी क्रमश: 8.25 प्रतिशत, 5.5 प्रतिशत और 5.5 प्रतिशत होगा। इसके अलावा सूरजमुखी, सोयाबीन, पामोलिन और पाम तेल की परिष्कृत किस्मों पर मूल सीमा शुल्क मौजूदा 32.5 प्रतिशत से घटाकर 17.5 प्रतिशत कर दिया गया है।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही ताज़ा अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर हमें फॉलो करें।

From around the web