कोरोना से जागरूकता के लिए शासन-प्रशासन के साथ जनप्रतिनिधि आगे आएः उद्योग मंत्री लखमा

कोरोना से जागरूकता के लिए शासन-प्रशासन के साथ जनप्रतिनिधि आगे आएः उद्योग मंत्री लखमा

रायपुर : उद्योग मंत्री एवं बस्तर जिले के प्रभारी मंत्री कवासी लखमा ने आज जगदलपुर कलेक्ट्रेट के प्रेरणा कक्ष में बस्तर में संचालित विकास कार्यों की समीक्षा की। बैठक में उन्होंने कोरोना की एक और लहर को देखते हुए सभी सुरक्षात्मक उपाए लागू करने के साथ ही शासन-प्रशासन एवं जनप्रतिनिधियों को भी लोगों को जागरुक करने के लिए आगे आने की अपील की। इस अवसर पर सांसद दीपक बैज, बस्तर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष लखेश्वर बघेल, संसदीय सचिव रेखचंद जैन, हस्तशिल्प विकास बोर्ड के अध्यक्ष चंदन कश्यप, चित्रकोट विधायक राजमन बेंजाम, महापौर सफीरा साहू, नगर निगम सभापति कविता साहू मौजूद थे।


    उद्योग मंत्री लखमा ने कोरोना के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए अस्पताल और कोविड केयर सेंटर में सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए आवश्यक तैयारी सुनिश्चित रखने के निर्देश दिए। मंत्री ने धान खरीदी की समीक्षा करते हुए मौसम में बार-बार आ रहे बदलाव को देखते हुए खरीदे गए धान की सुरक्षा के लिए सभी आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित रखने के निर्देश दिए। उन्होंने बारिश की स्थिति में धान की सुरक्षा के लिए तिरपाल तथा पानी की निकासी के लिए ड्रेनेज की व्यवस्था सुनिश्चित रखने के साथ ही धान के उठाव में तेजी लाने के निर्देश भी दिए। उन्होंने धान खरीदी को सुचारू रखने के लिए भी सभी आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित रखने के निर्देश दिए।


प्रभारी मंत्री ने इसके साथ ही नरवा, गरुआ, घुरवा बाड़ी सहित मनरेगा संचालित कार्यों की समीक्षा करते हुए कार्यों को समय-सीमा में पूर्ण करने के निर्देश दिए। नरवा कार्यक्रम के तहत किए गए कार्यों का अवलोकन जनप्रतिनिधियों के माध्यम से कराने तथा वर्मी कम्पोस्ट के उत्पादन बढ़ाने की दिशा में भी कार्य करने के निर्देश दिए, जिससे तेजी से बढ़ रही मांग के अनुसार आपूर्ति की जा सके। उन्होंने जल जीवन मिशन अंतर्गत कार्यों को समय सीमा में पूर्ण करने के लिए पूरी गति के साथ कार्य करने के साथ ही गुणवत्ता के साथ किसी भी प्रकार का समझौता नहीं करने के निर्देश दिए। जहां कार्य की गति धीमी है, वहां तेजी लाने के लिए सभी प्रयास किए जाएं।


मंत्री ने आंगनबाड़ी भवनों का निर्माण शीघ्र पूर्ण करने के साथ ही नगरीय क्षेत्रों में भवनों के निर्माण के लिए भूमि के चिन्हांकन के निर्देश दिए। उन्होंने मुख्यमंत्री सुपोषण योजना के तहत जिले में संचालित स्वसहायता समूहों के माध्यम से अंडा और केला की आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। मंत्री ने इसके साथ ही समीक्षा बैठक में जल संसाधन, शिक्षा, आदिम जाति कल्याण विभाग, प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क, लोक निर्माण विभाग, राष्ट्रीय राजमार्ग, विद्युत विभाग, हाउसिंग बोर्ड, नगर निगम, सहित अन्य विभागों द्वारा संचालित कार्यों की समीक्षा की।  बैठक में कलेक्टर रजत बंसल, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र मीणा, वन मंडलाधिकारी स्टायलो मंडावी, जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी ऋचा प्रकाश चौधरी सहित जनप्रतिनिधि एवं अधिकारीगण उपस्थित थे।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही ताज़ा अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर हमें फॉलो करें।

From around the web