बाबा राम देव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस मेें कोरोना की दवा कोरोनिल पर दी सफाई

 

नई दिल्ली: कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में कहर मचा रखा है। लेकिन अभी तक इस घातक वायरस के लिए कोई दवा का उत्पादन नहीं किया गया है। योग गुरु बाबा रामदेव ने कुछ दिनों पहले अपनी पतंजलि कंपनी की ओर से बताया कि उन्होंने इसकी दवा तैयार कर ली है।

बाबा रामदेव ने इस बारे में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की और कहा कि दुनिया कोरोना वायरस की कुछ दवाओं के आने का इंतजार कर रही थी, आज हमें गर्व है कि हमने कोरोना वायरस की पहली आयुर्वेदिक दवा तैयार की है। बाबा रामदेव ने बताया कि इस आयुर्वेदिक दवा का नाम कोरोनिल है।

प्रेस को संबोधित करते हुए, बाबा रामदेव ने कहा कि उन्होंने कोरोना पर नैदानिक ​​नियंत्रण का प्रयास किया है। बाबा रामदेव ने यह भी बताया कि क्लिनिकल परीक्षण के मापदंडों के तहत हमने शोध किया है।

अब तक कोरोना के ऊपर क्लिनिकल परीक्षण हो चुका है।

इसके अलावा, हम 10 से अधिक बीमारियों पर परीक्षण कर रहे हैं और तीन स्तरों को पार कर चुके हैं।

इसमें उच्च रक्तचाप, अस्थमा, हृदय, चिकनगुनिया जैसी बीमारियां शामिल हैं, जिन पर हम परीक्षण कर रहे हैं।

बाबा रामदेव ने बताया, "आयुष मंत्रालय ने कहा है कि कोविद -19 के प्रबंधन के लिए पतंजलि ने पर्याप्त काम किया है यानी अच्छी पहल की है। पतंजलि ने एक सही दिशा में काम करना शुरू कर दिया है।"

योग गुरु बाबा रामदेव आज प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कोरोनिल विवाद पर सफाई दे रहे हैं। बाबा रामदेव ने कहा है कि हमारे खिलाफ मामले दर्ज किए गए हैं। मेरे धर्म, जाति और संन्यास पर सवाल उठाए गए।

कुछ लोगों ने गंदा माहौल बनाने की कोशिश की है। उन्होंने कहा कि आतिथ्य नहीं, तिरस्कार नहीं। साथ ही, बाबा रामदेव ने कहा कि आयुष मंत्रालय ने हमारे प्रयासों की सराहना की है।

From around the web