यहां है कुबेर की सबसे ऊंची प्रतिमा, धनतेरस पर दर्शन के लिए पहुंचते हैं लोग

यहां है कुबेर की सबसे ऊंची प्रतिमा, धनतेरस पर दर्शन के लिए पहुंचते हैं लोग

धन के देवता कहलाने वाले कुबेर की देश में सबसे ऊंची प्रतिमा विदिशा में है। 12 फीट ऊंची ईसा पूर्व दूसरी शताब्दी की यह प्रतिमा बैस नदी से खोदाई के दौरान मिली थी, जिसे पुरातत्व संग्रहालय के मुख्य द्वार पर स्थापित किया गया है। हर साल धनतेरस पर कुबेर के दर्शनों के लिए बड़ी संख्या में लोग यहां पहुंचते हैं। पुरातत्वविदों के अनुसार देश में कुबेर की यह दूसरी प्रतिमा है। बिहार के दीदारगंज में मिली एक प्रतिमा नई दिल्ली के राष्ट्रीय पुरातत्व संग्रहालय में रखी है।

राज्य पुरातत्व विभाग के जिला संग्रहालय प्रभारी रहे  पुरातत्वविद एमके माहेश्वरी बताते हैं कि सन 1955 से 60 के बीच बैस नगर की खोदाई के दौरान नदी के किनारे यह प्रतिमा मिली थी, जो ईसा पूर्व दूसरी शताब्दी की मानी जाती है। वे बताते हैं कि दूसरी शताब्दी में कुबेर को यक्ष माना जाता था। उनकी ग्राम देवता के रूप में पूजा होती थी। रामायण काल में भी कुबेर का संदर्भ मिलता है। रामायण में रावण द्वारा कुबेर को युद्ध में हराकर उनका पुष्पक विमान छीनने का उल्लेख भी मिलता है।

करीब 12 फीट ऊंची और ढाई फीट चौड़ी इस प्रतिमा को लोक निर्माण वभाग के रेस्ट हाउस के पास रख दिया था, जो लंंबे समय तक यहां रखी रही। बाद में जब जिला संग्रहालय का निर्माण हुआ तो उसे संग्रहालय के मुख्य प्रवेश द्वार में रखा गया है।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही ताज़ा अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर हमें फॉलो करें।

From around the web