बारिश ने बनाया रिकॉर्ड, जनजीवन अस्तव्यस्त, कड़ाके की ठंड से नहीं मिलेगी निजात 

 
कानपुर।  मौसम के अचानक करवट बदलने से लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। सर्दी के मौसम में बारिश ने रिकॉर्ड बनाया है। शहर में बुधवार से शुरू हुई बारिश का सिलसिला पूरी रात और गुरुवार तक जारी रहने से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। वहीं बारिश के बाद सर्द हवाओं ने ठंड बढ़ा दी, जिससे लोग सुबह से घरों में ही दुबके रहे।
शहर में बारिश के बाद गिरते तापमान ने शहरवासियों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। 

गुरुवार को जिलाधिकारी के आदेश पर स्कूलों में अवकाश घोषित रहा लेकिन नौकरी करने वाले सुबह जब दफ्तरों के लिए निकले तो समस्या का सामना करना पड़ा। पूरी रात और सुबह तक रुक रुककर बारिश होती रही, जिससे ठिठुरन बढ़ गई है। बारिश ने एक बार फिर से गलन बढ़ा दी और दोपहर तक सूर्य देव के दर्शन नहीं हो सके। 
चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (सीएसए) के मौसम विभाग के अनुसार फिलहाल कड़ाके की ठंड बनी रहेगी और शुक्रवार को भी बारिश के आसार बन रहे हैं। मौसम वैज्ञानिक डॉ.नौशाद खान ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ के कारण शहर में बारिश हो रही है, फिलहाल बदली व कोहरा छाए रहने के आसार हैं। दिन के समय सर्दी बढ़ेगी जबकि रात में भी सर्द हवा चलेगी। इस महीने के अंत तक तापमान सामान्य व उससे ऊपर होना शुरू हो जाएगा।
गुरुवार को 40.2 मिमी बारिश दर्ज की गई है,जो जनवरी माह में अब तक की तीसरी सर्वाधिक बारिश रही। सीएसए के मौसम वैज्ञानिक डॉ.नौशाद खान ने बताया कि इस बारिश से आलू व सरसों के अलावा चना,मटर व मसूर जैसी दलहनी फसलों को नुकसान हुआ है। इनमें से मसूर सबसे अधिक संवेदनशील फसल है। मसूर की खेती में कम पानी की जरूरत होती है। बारिश ने उसे नुकसान पहुंचाया है।
 

From around the web