अगले वर्ष और बेहतर तरीके से आयोजित होगा कमल युवा खेल महोत्सव :कृषि मंत्री पटेल

अगले वर्ष और बेहतर तरीके से आयोजित होगा कमल युवा खेल महोत्सव :कृषि मंत्री पटेल

भोपाल : उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने मंगलवार को कमल युवा खेल महोत्सव कार्यक्रम में उपस्थित खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि यह महोत्सव जिले के खिलाड़ियों की खेल प्रतिभा को निखारने के लिये एक बेहतर मंच है। मंत्री डॉ. यादव ने कहा कि जिले के खिरकिया विकासखण्ड मुख्यालय पर शासकीय महाविद्यालय स्वीकृत करेंगे। किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने कहा कि कमल युवा खेल महोत्सव से जिले के ग्रामीण और शहरी क्षेत्र के खिलाड़ियों को अपनी प्रतिभा प्रदर्शित करने का अवसर मिला है। उन्होंने कहा कि अगले वर्ष यह महोत्सव 25 दिसम्बर, 2022 से 12 जनवरी, 2023 तक और भव्यता के साथ मनाया जाएगा। कार्यक्रम में पूर्व मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि यह खेल महोत्सव हरदा जिले की खेल प्रतिभाओं को तराशने में मददगार सिद्ध होगा।

कृषि मंत्री पटेल ने कहा कि कोरोना काल के बाद खिलाड़ियों का खेल मैदान की ओर आकर्षण कम हो गया था। खिलाड़ियों को खेल मैदान की ओर आकर्षित करने कमल युवा खेल महोत्सव आयोजित किया गया है। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के जन्म दिवस से स्वामी विवेकानन्द जी के जन्म-दिवस तक यह खेल महोत्सव आयोजित किया गया है। इस महोत्सव में 28 प्रकार के खेलों की प्रतियोगिताएँ आयोजित हुई हैं। उन्होंने खिरकिया में शासकीय महाविद्यालय स्वीकृत करने के लिये उच्च शिक्षा मंत्री का आभार प्रकट किया।

उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. यादव ने इस अवसर पर संबोधित करते हुए कहा कि हमारे देश और प्रदेश के कई खिलाड़ियों ने अंतर्राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं में पिछले वर्षों में अच्छा प्रदर्शन किया है। केन्द्र सरकार एवं राज्य सरकार खिलाड़ियों तथा खेलों के लिये पर्याप्त बजट प्रावधान कर रही है। खिलाड़ियों को हर संभव सुविधाएँ उपलब्ध कराई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि उच्च शिक्षा विभाग में पहले खेल प्रशिक्षक का वेतन अन्य प्राध्यापकों की तुलना में बहुत कम होता था। प्रदेश सरकार ने हाल ही में खेल शिक्षकों का वेतन अन्य प्राध्यापकों के समकक्ष कर उनका सम्मान बढ़ाया है। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. यादव ने कहा कि खेल प्रशिक्षकों के रिक्त पद भरने के लिये शीघ्र ही विशेष भर्ती अभियान प्रारम्भ किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश के महाविद्यालयों में खेल मैदान, बाउण्ड्री-वॉल तथा कॉलेज भवन निर्माण के लिये लगभग 1500 करोड़ रूपये के कार्य गत वर्षों में स्वीकृत किये है।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही ताज़ा अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर हमें फॉलो करें।

From around the web