भदोही : स्नान के दौरान गंगा में चार युवक डूबे, तीन का शव बरामद

डंके की चोट पर 'सिर्फ सच'

  1. Home
  2. Regional

भदोही : स्नान के दौरान गंगा में चार युवक डूबे, तीन का शव बरामद


भदोही : स्नान के दौरान गंगा में चार युवक डूबे, तीन का शव बरामद


-गंगा में डूब रहे छह युवकों में साड़ी फेंककर माँ-बेटी ने दो की बचायी जान

-गोपीगंज कोतवाली के कवलापुर गाँव के निवासी हैं डूबने वाले सभी युवक

अपडेट

भदोही, 15 मई (हि.स.)। उत्तर प्रदेश के जनपद भदोही में रविवार की सुबह तक़रीबन आठ बजे गोपीगंज कोतवाली के बिहारोजपुर गंगा घाट पर स्नान के दौरान चार युवक गंगा में डूब गए। तीन बच्चे एक ही परिवार के बताए गए हैं। पुलिस प्रशासन एवं गोताखोरों की मदद से तीन शवों को बरामद कर लिया गया है। जबकि वाराणसी से पहुंची एनडीआरएफ की टीम डूबे एक युवक की तलाश में में जुटी है।

घटना की खबर लगते ही जिलाधिकारी आर्यका अखौरी और पुलिस अधीक्षक डॉ.अनिल कुमार मौके पर पहुंच राहत एवं बचाव कार्य में जूट गए। गंगा में डूब रहे प्रभात प्रवेश, लकी और अंकित चौबे का शव बरामदकर लिया गया है जबकि प्रभात की खोज जारी है। अभी तक खबर लिखे जाने तक प्रभात की तलाश जारी है।

भदोही पुलिस अधीक्षक डा. अनिल कुमार के अनुसार गोपीगंज कोतवाली के कौलापुर गाँव के तक़रीबन आठ से दस बच्चे बिहारोजपुर गंगा घाट पर रविवार की सुबह स्नान करने गए थे। इसी दौरान छह बच्चे स्नान के दौरान गंगा में डूबने लगे। घाट पर मौजद लोगों की तरफ शोर मचाने पर गंगा में डूब रहे आशीष (19) और एक और को को एक माँ और बेटी साड़ी फेंक कर बचाया, लेकिन एक ही परिवार के प्रभात (24) पुत्र त्रिपुरारी मिश्र, प्रवेश (22) पुत्र अवधबिहारी मिश्र, लकी (15) पुत्र बृजबिहारी, और अंकित चौबे (21) पुत्र विद्याधर चौबे गहरे पानी में डूब गए। प्रभात, लकी और विक्की एक ही परिवार के चचेरे भाई हैं।

पुलिस अधीक्षक के अनुसार राहत एवं बचाव कार्य के लिए वाराणसी से फ्लड पीएसी एवं एनडीआरएफ बुलाया गया है। गंगा में डूबे चार बच्चों में तीन का शव बाहर निकाल लिया गया है जबकि एक की तलाश अभी जारी है। जिलाधिकारी आर्यका अखौरी और पुलिस अधीक्षक डॉ अनिल कुमार ने घटना पर गहरी संवेदना जताते हुए पीड़ित परिजनों को सांत्वना दी है। गंगा से बरामद शवों को अंत्य परीक्षण के लिए जिला अस्पताल महाराजा चेतसिंह लाया गया है। गर्मी के मौसम में गंगा स्नान के दौरान इस तरह की घटनाएं अक्सर होती हैं। जिला प्रशासन को इस पर गंभीरता से विचार करना चाहिए।

हिन्दुस्थान समाचार /प्रभुनाथ