जीटीए चुनाव से पहले बिमल गुरुंग ने ममता बनर्जी से बातचीत को लेकर लिखा पत्र

डंके की चोट पर 'सिर्फ सच'

  1. Home
  2. Regional
  3. West Bengal

जीटीए चुनाव से पहले बिमल गुरुंग ने ममता बनर्जी से बातचीत को लेकर लिखा पत्र


जीटीए चुनाव से पहले बिमल गुरुंग ने ममता बनर्जी से बातचीत को लेकर लिखा पत्र


कोलकाता, 14 मई (हि.स.)। जून में होने वाले गोरखालैंड प्रादेशिक प्रशासन (जीटीए) के चुनाव से पहले, गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) के अध्यक्ष बिमल गुरुंग ने शनिवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पत्र लिखकर शेष बचे हुए विभागों को जीटीए में स्थानांतरित करने की मांग की है। दार्जिलिंग पहाड़ियों का क्षेत्रीय स्वायत्त निकाय और इसमें 396 गोरखा बहुसंख्यक मौजों को शामिल करने की मांग उन्होंने की है।

अपने पत्र में उन्होंने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से चुनाव से पहले बातचीत करने को भी कहा है। हालांकि उन्होंने यह दोहराया है कि उनकी पार्टी तृणमूल के साथ अपने गठबंधन धर्म को निभाने के लिए हमेशा प्रतिबद्ध रही है।

गुरुंग ने पत्र में कहा कि अक्टूबर 2020 में जीजेएम ने भारतीय जनता पार्टी से सभी संबंध तोड़ लिए और तृणमूल कांग्रेस के साथ गठबंधन किया। 2007 में जीजेएम की स्थापना करने वाले गुरुंग ने कहा कि उनकी पार्टी तृणमूल के साथ अपने गठबंधन में कभी नहीं डगमगाई। उन्होंने चुनाव से पहले मुद्दों पर चर्चा करने के लिए बनर्जी से बातचीत की मांग की।

पश्चिम बंगाल सरकार ने लंबे समय से प्रतीक्षित चुनावों की घोषणा करते हुए एक बयान में कहा कि राज्य सरकार ने राज्य चुनाव आयोग के परामर्श से सिलीगुड़ी अनुमंडल परिषद और गोरखालैंड क्षेत्रीय प्रशासन के चुनाव जून में कराने का फैसला किया है।

50 सीटों वाले जीटीए में 45 निर्वाचित सदस्य होते हैं और पांच अन्य राज्यपाल द्वारा मनोनीत होते हैं।

दार्जिलिंग गोरखा हिल काउंसिल के पहले प्रयोग के विफल होने के बाद 2011 में केंद्र, राज्य और जीजेएम के बीच त्रिपक्षीय समझौते के परिणामस्वरूप जीटीए का गठन किया गया था।

दार्जिलिंग पहाड़ियों में 1980 के दशक से पृथक गोरखालैंड राज्य के निर्माण की मांग को लेकर हिंसक आंदोलन देखा गया है। आखिरी बार 2017 में 104 दिनों का आंदोलन और हड़ताल थी, जिसके दौरान 11 लोगों की जान चली गई थी।

2017 में गुरुंग ने जीटीए के अध्यक्ष के रूप में इस्तीफा दे दिया, जिसके बाद हिंसक आंदोलन शुरू हो गया। तब से जीटीए को राज्य सरकार द्वारा नामित प्रशासकों द्वारा चलाया जाता है। जून में होने वाला चुनाव 11 साल बाद होना है।

2017 के आंदोलन के बाद, तृणमूल सरकार ने गुरुंग पर यूएपीए अधिनियम के तहत आरोपों सहित कई मामले दर्ज किए। बाद में गुरुंग के 2021 के विधानसभा चुनाव से पहले पहाड़ियों पर लौटने और तृणमूल के लिए अपने समर्थन की घोषणा करने के बाद मामले वापस ले लिए गए थे।

हाल के निकाय चुनावों में, दार्जिलिंग में हमरो पार्टी नाम से एक नई राजनीतिक ताकत का उदय हुआ है, जिसने दार्जिलिंग नगर पालिका के तहत 32 में से 18 वार्ड जीते हैं। बिमल गुरुंग पहले भारतीय जनता पार्टी के साथ थे लेकिन पृथक गोरखालैंड संबंधी मांग के स्थाई राजनीतिक समाधान को लेकर बार-बार टालमटोल की वजह से उन्होंने तृणमूल कांग्रेस से गठबंधन कर लिया है।

हिन्दुस्थान समाचार /ओम प्रकाश/गंगा