युवाओं को राजनीति में आना चाहिए : राज्यपाल

डंके की चोट पर 'सिर्फ सच'

  1. Home
  2. Regional

युवाओं को राजनीति में आना चाहिए : राज्यपाल


युवाओं को राजनीति में आना चाहिए : राज्यपाल


रांची, 14 मई (हि.स.)। राज्यपाल रमेश बैस ने कहा कि आज भारत का युवा शिक्षित है लेकिन युवाओं की संख्या राजनीति में अपेक्षित नहीं है। देश के युवाओं में राजनीति के प्रति उदासीनता को कम करना होगा। उन्होंने कहा कि युवाओं को राजनीति में आना चाहिए। वे झारखंड तकनीकी विश्वविद्यालय एवं युवा सदन द्वारा आजादी का अमृत महोत्सव के अवसर पर शनिवार को ‘झारखंड युवा सदन : द यूथ एसेम्बली तृतीय’ कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि अक्सर माता-पिता अपने बच्चों को डॉक्टर, इंजीनियर, प्रशासनिक अधिकारी या फिर पुलिस अधिकारी बनाने की बात करते हैं। कोई भी अभिभावक अपने बच्चे को अधिक-से-अधिक जानकारी हासिल करने के लिए अध्ययन करने नहीं कहता। इससे उनको देश के विभिन्न मुद्दों पर अधिक जानकारी होगी, ताकि वे एक कुशल राजनेता एवं नीति-निर्माता बन सकें। हमें यह सामाजिक धारणा बदलनी होगी। उन्होंने कहा कि युवाओं को अपने दायित्वों से भागना नहीं चाहिए और सामाजिक समस्याओं के निदान के लिए सक्रिय होना चाहिए। जनहित के विषयों के प्रति संवेदनशील रहना चाहिए।

राज्यपाल ने कहा कि भारत सरकार द्वारा हमारे स्वतंत्रता संग्राम के नायकों के योगदान से नयी पीढ़ी को अवगत कराने का निर्णय लिया गया है। इस क्रम में हमें आजादी के उन महानायकों के योगदान से भी युवा व नयी पीढ़ी को अवगत कराने की जरूरत है, जिन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लेते हुए ब्रिटिश हुकूमत से कड़ा संघर्ष किया लेकिन पता नहीं किन कारणवश इतिहास की पुस्तकों में उनके योगदानों का उल्लेख नहीं हो सका।

राज्यपाल ने कहा कि हम सभी जानते हैं कि भारत एक लोकतांत्रिक देश है। आज भारत में युवाओं की संख्या सबसे अधिक है। यह एक ऐसा वर्ग है जो शारीरिक और मानसिक रूप से सबसे अधिक शक्तिशाली है। देश को ऐसे युवा नेताओं की सख्त जरूरत है जो ऊर्जावान, उत्साही, नैतिक रूप से मजबूत और मेहनती हों।

हिन्दुस्थान समाचार/ वंदना