Vastu Tips : भूलकर भी गिफ्ट में इन चीजों का न करें लेन-देन, घर में ला सकती हैं दरिद्रता

डंके की चोट पर 'सिर्फ सच'

  1. Home
  2. Religious

Vastu Tips : भूलकर भी गिफ्ट में इन चीजों का न करें लेन-देन, घर में ला सकती हैं दरिद्रता

pic


सबको घर में सुख, शांति और समृद्धि हो, लेकिन कई चीजें ऐसी होती हैं जो घर में बुराई लाती हैं और आर्थिक नुकसान का कारण बनती हैं। अब जाहिर सी बात है कि कोई भी जानबूझकर ऐसा काम नहीं करेगा, लेकिन अनजाने में कुछ ऐसी चीजें घर आ जाती हैं जो उनके साथ दुर्भाग्य लेकर आती हैं।

शास्त्रों में ऐसी कई बातों का उल्लेख है। कुछ लोग ईर्ष्या के कारण ऐसा करते हैं, लेकिन आपको सावधान रहने की जरूरत है। इन चीजों को तुरंत घर से बाहर निकाल दें और इन चीजों को खुद तोहफे के तौर पर न दें।

ये हैं वो चीजें जो घर में दुर्भाग्य लाती हैं

  • शेर, बाघ, चीते जैसे हिंसक जानवरों की तस्वीरें या मूर्ति उपहार के रूप में लेना या देना शुभ नहीं माना जाता है।
  • डूबते जहाज की तस्वीर या मूर्ति उपहार के रूप में लेना या देना भी शुभ नहीं होता है। इससे आर्थिक नुकसान होता है।
  • चाकू और चाकू जैसी नुकीली चीजें उपहार के रूप में नहीं देनी चाहिए। इससे परिवार के सदस्यों में कलह पैदा होती है।
  • काला वस्त्र उपहार में नहीं देना चाहिए। इसे दर्दनाक और घातक माना जाता है।
  • किसी को जूते लेना या देना भी शुभ नहीं माना जाता है। यह अलगाव का प्रतीक है। ऐसे उपहार देने पर प्रेमी अलग हो सकते हैं।
  • रुमाल भी गिफ्ट नहीं करना चाहिए। यह बात आपने बड़ों से सुनी होगी। इससे जीवन में मुश्किलें आती हैं।
  • घड़ी को उपहार के रूप में लेना भी शुभ नहीं माना जाता है। इसे उपहार में देने से प्रगति में रुकावट आती है।
  • अब इसका मतलब यह नहीं है कि उपहार के रूप में सब कुछ अद्वितीय है। घर की महिलाओं को वस्त्र, आभूषण आदि उपहार स्वरूप दें, इससे लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं। लेकिन ध्यान रहे कि सूर्यास्त के समय किसी बाहरी व्यक्ति को किसी भी प्रकार का उपहार न दें। ऐसा करने से धन की हानि होती है।
  • वास्तु ने अपने वैज्ञानिक आधार पर कुछ वस्तुओं को उपहार के रूप में काफी अच्छा माना है, लेकिन कुछ चीजें ऐसी भी हैं जिन्हें कभी भी उपहार के रूप में नहीं देना चाहिए क्योंकि ये वस्तुएं प्राप्तकर्ता के साथ-साथ आपको भी नुकसान पहुंचा सकती हैं। इनके पीछे ऊर्जा और मनोविज्ञान दोनों का विज्ञान है।