यूपी- एमपी प्रांत के किसानों के बीच गोवंशों का "डे नाइट" फुटबाल मैच!

00

विनोद मिश्रा
बांदा।
यूपी-एमपी के सीमावर्ती गांवों के किसानों के बीच "गोवंश फुटबाल" मैच हो रहा है। यह मैच सेमी फाइनल के दौर में हैं। यूपी एवं एमपी के किसान गोवंश फुटबाल का गोल दागने के लिए जमकर "डे नाइट" खेल खेल रहे हैं। आलम यह है की एक-दूसरे की प्रांतो की सरहद पर गायों के झुंड रोजाना खदेड़े जा रहे हैं। इस वजह से ग्रामीणों का आमना सामना हो झगड़े की नौबत भी आ जाती है। इससे तनातनी का आलम हैं, जो विस्फोटक़ भी हो सकता हैं।

आपको जानकर आश्चर्य भरा दुख होगा की दोनों प्रांतो की तरफ के किसान 80 हजार बीघा भूमि खेती बचाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। सीमावर्ती गांवों में बड़ी तादाद में अन्ना पशु हैं। बांदा (यूपी) की सीमा में रहने वाले किसान अक्सर इन गायों के झुंड को एमपी की पन्ना सीमा में खदेड़ देते हैं। मौका मिलते ही एमपी के किसान इन गायों को यूपी की तरफ हांक देते हैं। जिस तरफ ग्रामीणों की संख्या कम होती है, सामने वाले डरा धमका कर भगा देते हैं। यह स्थिति किसी दिन बड़े विवाद की वजह बनेगी।

पुंगरी गांव के किसान कृष्ण गोपाल बताते हैं कि अन्ना गायों से फसल बचाने के लिए तरह-तरह के पापड़ बेलने पड़ रहे हैं। गांव से 5000 रुपये चंदा कर 150 अन्ना गायों को पन्ना घाटी में छुड़वाया था। एमपी वालों ने यह पैसा ले लिया और 15 दिन में ही गायों को फिर हमारे गांवों की तरफ हांक दिया। जब भी गायों को मध्य प्रदेश की घाटी में यूपी के किसान हांकते हैं तो एमपी के किसान झगड़े पर आमादा हो जाते हैं। फसल बचाने के लिए खेत में चारों तरफ झाड़ियां व कंटीले तार की बाड़ लगा रखी है।  माड़िया डाल दिन-रात खेत में ही गुजार रहे हैं।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही ताज़ा अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर हमें फॉलो करें।

From around the web