डीएम अनुराग पटेल ने दिया मंत्र : "हारिये न हिम्मत विसारिये न राम को"!

 
00

विनोद मिश्रा
बांदा।
जिलाधिकारी अनुराग पटेल नें जनता को जागरूक करते हुये कहा है की "हारिये न हिम्मत विसारिये न राम को" इस मूल मंत्र से बड़ी से बड़ी समस्या का मुकाबला किया जा सकता है। जिलाधिकारी विश्व मानसिक दिवस पर जिला चिकित्सालय में गोष्ठी का उद्घाटन करने के बाद संबोधन में स्वस्थ मानसिकता का मंत्र दे रहे थे।कहा की किसी भी विषम परस्थिति में घबड़ाना चाहिए। हिम्मत और ईमानदारी से काम करते हुये कर्तव्यबोध के साथ आगे बढ़ते रहना चाहिये।इससे कार्य संपन्न होने में सरलता एवं आत्मसंतुष्टि होती है। उन्होने मानसिक रोगियों की बढ़ती संख्या पर चिंता भी जताई।कहा की डिप्रेशन से बचना हैं तो खुश रहना होगा।

गोष्ठी में सीएमओ विनीत तिवारी नें कहा की मानसिक रोगी की सोचने-समझने की क्षमता का ह्रास होता है। सोच और विचार में परिवर्तन आ जाता है।इससे रोगी की दैनिक कार्य क्षमता पर विपरीत असर पड़ता है।रोगी में गंभीर मानसिक विकृति आ जाती है।समुचित देखभाल एवं व्यायाम से इस रोग से बचा जा सकता है।

मुख्य चिकित्सा अधीक्षक सम्पूर्णानन्द मिश्र नें कहा कि कोविड की विकरालता के समय हमारे स्वास्थ कर्मी भी मानसिक तनाव से गुजरे, लेकिन हिम्मत नहीं हारी।

उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी एम सी पाल नें बताया कि मानसिक रोगियो के उपचार के लिये सप्ताह में समय निर्धारित किये गये हैं।मानसिक स्वास्थ बोर्ड के सदस्य जनार्दन त्रिपाठी नें आकड़ों के साथ बताया की मानसिक रोग के तहत जिले में आत्महत्या की घटनाओं में वृधि हो रही हैं।

इस अवसर पर डीएम पटेल नें मनोचिकित्सक डाक्टर हरदयाल सहित अन्य को भी इस क्षेत्र में कार्य के लिये प्रशंसा प्रमाण पत्र दिये।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही ताज़ा अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर हमें फॉलो करें।

From around the web