समाज की पीड़ा को अपनी पीड़ा समझने वाले लोग ही समाज के बीच में दिखाई देंगे : लक्ष्य

 
00

कौशाम्बी। लक्ष्य की महिला टीम ने  "लक्ष्य गांव गांव की ओर" अभियान के तहत लक्ष्य कमांडर ममता गौतम के नेतृत्व में एक कैडर कैंप का आयोजन जिला कौशाम्बी के गांव अटसरई तहसील सिराथू में किया। 

जिसमें लखनऊ से आई लक्ष्य की महिला कमांडरों को सुनने के लिए गांव की महिलाओं ने बढ़चढ़कर हिस्सा लिया और लक्ष्य कमांडरों के संघर्ष की जोरदार प्रशंसा की। यहां यह बता दें कि लक्ष्य की महिला कमांडर समाज के अधिकारों के लिए दिनरात जुटी हुई है। वे ठण्ड, बरसात, गर्मी की  परवाह किये बिना पूरे प्रदेश में दौरा कर रही है और उनके संघर्ष  की छाप समाज में साफ देने लगी है। 

अपना हित चाहते हो तो समाज हित पर ध्यान दो, अगर समाज मजबूत होगा तभी हम लोग भी मजबूत बन पाएंगे, अगर अपने तक सीमित रहोगे तो कभी भी मजबूत व सुरक्षित नहीं रह सकते हो, इतिहास गवाह है कि जिस समाज के लोगों ने समाज  के हित में कार्य किया है, समाज के हितों को सर्वोपरि रखा है उसी समाज के लोगों ने विकास के फलों का अच्छे से सेवन किया अर्थात् वे ही लोग देश की धन धरती पर काबिज रहे है अर्थात्  समाज की पीड़ा को अपनी पीड़ा समझने वाले लोग ही समाज के बीच में दिखाई देंगें। यह बात लखनऊ  से आई लक्ष्य की महिला कमांडरों ने अपने सम्बोधन में कही। 

लक्ष्य कमांडरों ने समाज के लोगों से आवाह्न करते हुए कहा कि आओ मिलकर जातियों की दीवारों को तोड़ें और मान्यवर कांशीराम साहब के बताये मार्ग पर चलकर बहुजन समाज के भविष्य का निर्माण करें।

इस कैडर कैंप में लक्ष्य कमांडर संघमित्रा गौतम, रेखा आर्या, राजकुमारी कौशल, ममता प्रकाश, ममता गौतम, इंद्रानी गौतम, रोली पाल, रूचि मौर्या, समीना बानो,  अश्विवनी गौतम, आशा गौतम, नेहा गौतम, हर्षवर्धन गौतम, लवकुश गौतम, अशोक सिद्धार्थ गौतम, शेष नरायन गौतम, राजू सोनकर, संदीप गौतम, गुड्डू गौतम, शैलेन्द्र राज, अशोक कुमार व एम एल आर्या ने हिस्सा लिया |

 

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही ताज़ा अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर हमें फॉलो करें।

From around the web