मां मंशा देवी विवादः नगर कोतवाल और कांस्टेबल के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग

डंके की चोट पर 'सिर्फ सच'

  1. Home
  2. Uttrakhand

मां मंशा देवी विवादः नगर कोतवाल और कांस्टेबल के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग

mansadevi


हरिद्वार। नगर कोतवाली प्रभारी और एक कांस्टेबल के खिलाफ न्यायलय की अवमानना , प्रभावशाली लोगों के दबाव में आकर कार्य करने का आरोप लगाते हुए शशी ठाकुर पुत्री रघुवीर सिंह ठाकुर, निवासी 80 एमआईजी जीएमएस रोड इन्द्रापुरम् एमडीडीएम कालोनी देहरादून ने एसएसपी को पत्र देकर मुकदमा दर्ज करने की मांग की है।

एसएसपी को दिए पत्र में शशी ठाकुर ने कहा कि मां मंशा देवी मंदिर के कथित ट्रस्ट अध्यक्ष महंत रविन्द्रपुरी, बिन्दू गिरि, अनिल शर्मा, राज गिरि, द्वारिका मिश्रा कथित ट्रस्टी व पुजारी सुरेश तिवारी के खिलाफ 7 मई 2022 को धोखाधड़ी करने, बदतमीजी, गाली-गलौच करने, वन विभाग की भूमि पर अवैध कब्जा कर 20 दुकानें बनाकर स्वयं किराया वसूलने के संबंध में कोतवाली हरिद्वार में तहरीर दी थी। इस पर पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की।

बीती 9 मई 2022 को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को भी शिकायती पत्र दिया गया, किन्तु उस पर भी कोई कार्यवाही नहीं की गयी। कार्रवाई ना होने पर प्रार्थी ने 20 मई 2022 को न्यायालय में उक्त संबंध में प्रार्थनापत्र दाखिल किया था, जिस पर 17. 8. 2022 को न्यायालय ने मां मंशा देवी मंदिर के कथित ट्रस्ट अध्यक्ष महंत रविन्द्रपुरी, बिन्दू गिरि, अनिल शर्मा, राज गिरि, द्वारिका मिश्रा कथित ट्रस्टी व पुजारी सुरेश तिवारी के खिलाफ प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कर विवेचना करने के आदेश दिए थे।

पत्र में शशी ठाकुर ने कहाकि हरिद्वार कोतवाली में तैनात कोतवाली राकेन्द्र सिंह कठैत ने आरोपी रविन्द्र पुरी, राज गिरि व अनिल शर्मा के साथ मिलकर उनके प्रभाव में आकर न्यायालय के आदेशों की अवहेलना की है। बिन्दू गिरि, द्वारिका मिश्रा व सुरेश तिवारी के खिलाफ ही हल्की धाराओं में मुकद्मा 0417/22 दर्ज किया है। जबकि तीन आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज नहीं किया है। ऐसे में कोतवाल ने न्यायालय के आदेशों की अवहेलना प्रभाव में आकर की है। साथ ही कांस्टेबल हिमांशु ने भी अधिकारी के दबाव में आकर मुख्य आरोपितों का नाम प्रथम सूचना रिपोर्ट में दर्ज ना कर अपने पद का दुरुपयोग किया है। शशी ठाकुर ने एसएसपी से कोतवाली राकेन्द्र कठैत व कांस्टेबल हिमांशु के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के आदेश पारित करने की आग्रह किया है।

यही नहीं इस पत्र की प्रति शशी ठाकुर ने प्रधानमंत्री, राज्यपाल उत्तराखण्ड, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, पुलिस महानिदेशक व आईजी गढ़वाल को भी प्रेषित की है।